दर्दनाक हादसा: तालाब में डूबने से चचेरे भाई-बहन की मौत!

फाइल फोटो
फाइल फोटो

सीजी क्रांति/डोंगरगांव। ब्लॉक के कोनारी में तालाब में डूबने से दो बच्चों की मौत होने की खबर है। दोनों बच्चे चचेरे भाई-बहन थे। बच्चों को डूबते देख उनकी मां भी बचाने के लिए तालाब में कूद पड़ी। लेकिन वह भी डूबने लगी। जिसे पास नहा रहे दूसरे व्यक्ति ने बचाकर बाहर निकाला। महिला को गंभीर हालत में इलाज के लिए दाखिल किया गया है। 6 घटना बुधवार सुबह करीब 11 बजे की है।

यह भी पढ़ें…नारायणपुर में भीषण आगजनी: खैरागढ़ के व्यवसायी जैनेन्द्र भंसाली की जलकर मौत, हादसा इतना भयानक की ‘कंकाल’ ही मिला…!

कोनारी में रहने वाली ममता साहू अपनी बेटी रुपाली (9) और भतीजे दीपेश साहू (10) को लेकर तालाब में नहाने गई थी। दोनों बच्चे तालाब किनारे नहा रहे थे, वहीं ममता कपड़ा धोने में व्यस्त हो गई। नहाते हुए बच्चे धीरे-धीरे गहराई के हिस्से में पहुंच गए। दोनों बच्चे तालाब में डूबने लगे। जिन पर अचानक ममता की नजर पड़ी। ममता भी बच्चों को बचाने के लिए तालाब में कूद गई। लेकिन गहराई वाले हिस्से में वह खुद भी डूबने लगी।

यह भी पढ़ें….16 को परिणाम आने के बाद बदलेगी खैरागढ़ की राजनीतिक फिजा, पढ़िए पूरी खबर…!

तभी तालाब के दूसरे हिस्से में नहा रहे ग्रामीण की नजर उन पर पड़ी। ग्रामीण ने तत्काल घाट में पहुंचकर ममता को बचाने का प्रयास किया और उसे बाहर निकाला। तब तक ममता भी बेसुध हो चुकी थी। ग्रामीण ने आसपास के लोगों को जानकारी दी और फिर सभी ने बच्चों को ढूंढने का प्रयास किया। कुछ ही देर में बच्चे तो मिले पर इतनी देर में दोनों बच्चों की मौत हो चुकी थी। महिला को गंभीर हालत में इलाज के लिए दाखिल कराया गया है।

यह भी पढ़ें….खैरागढ़ नहीं जीते, तो डॉ. रमन सिंह के खाते में होगी हार की लंबी फेहरिस्त!

घटना की जानकारी मिलने के बाद पास ही नहा रहे ग्रामीणों ने डूबे बच्चों को गहराई वाले हिस्से में ढूंढना शुरू किया। कुछ ही देर में दोनों बच्चे मिल गए। लेकिन जब तक उन्हें बाहर निकाला गया, उनकी मौत हो चुकी थी। ग्रामीणों ने आनन-फानन में दोनों बच्चों और ममता को अस्पताल पहुंचाया। जहां डॉक्टर ने रुपाली और दीपेश को मृत घोषित कर दिया। वहीं ममता को इलाज के लिए डोंगरगांव अस्पताल में दाखिल किया गया है। जहां उसका इलाज जारी है। ममता को खतरे से बाहर बताया जा रहा है।

यह भी पढ़ें…खैरागढ़ उपचुनाव: शाम 5 बजे तक 78 फीसदी मतदान; अब बूथ पर मौजूद मतदाता ही करेंगे वोटिंग, ईवीएम में कैद हुआ उम्मीदवारों का भविष्य!

पोस्टमार्टम के बाद दोनों बच्चों का शव पुलिस ने परिजनों को सौंप दिया। इसके बाद गांव में दोनों बच्चों का गमगीन माहौल में अंतिम संस्कार किया गया। इस हादसे से पूरे गांव में दुख की लहर फैल गई। ग्रामीण बच्चों की जानकारी लेने जुटे रहे। ग्रामीणों ने बताया कि बच्चे पहले भी अपने परिवार के सदस्यों के साथ तालाब में नहाने जाते रहे हैं। लेकिन वे कभी गहराई वाले हिस्से से हमेशा दूर रहते थे। बुधवार को भी बच्चे हमेशा की तरह तालाब गए, लेकिन इस दिन होनी को कुछ और ही मंजूर था और यह हादसा हो गया

यह भी पढ़ें…विधानसभा अध्यक्ष डॉ.चरणदास महंत के पायलट वाहन से हादसा, एक युवक की मौत

ग्रामीणों ने बताया कि रुपाली और दीपेश दोनों ही गांव के स्कूल में पढ़ते थे। दोनों कक्षा पांचवी में पढ़ रहे थे। दीपेश दो भाईयों में बड़ा था। वहीं रुपाली तीन बहने थें, जिसमें दूसरे नंबर की थी। हादसे के बाद साहू परिवार के सदस्य सदमें में हैं। हंसते खेलते बच्चों के इस तरह से मौत से पूरा परिवार टूट गया है। वहीं आसपास के लोग भी स्तब्ध हैं। डोंगरगांव पुलिस की टीम भी मौके मुआयने के लिए पहुंची थी। पुलिस ने मर्ग कायम कर मामले की जांच करने की बात कही है। हादसे के बाद ग्रामीण भी सहमे हुए हैं।

यह भी पढ़ें…खैरागढ़ उपचुनाव: नक्सल प्रभावित इलाकों में लोकतंत्र को लेकर ग्रामीणों में उत्साह, बूथो पर लगी लंबी कतार

जानकारी मुताबिक बच्चों की अंत्येष्टि के दौरान ग्रामीणों ने श्मशान के पास हंगामा मचा दिया। ग्रामीणों ने बताया कि श्मशान वाले हिस्से में शव दफन किए जाते हैं, वहां कुछ दिनों से धान खरीदी संग्रहण केंद्र के ट्रकों की आवाजाही हो रही है। इससे लोगों की भावनाएं आहत हो रही है। मौके से कुछ ग्रामीणों ने एसडीएम से शिकायत की। एसडीएम ने मामला फूड इंस्पेक्टर के पाले में डाल दिया। हालांकि ग्रामीणों का संपर्क फूड इंस्पेक्टर से नहीं हो पाया। ग्रामीण ट्रकों की आवाजाही का विरोध कर रहे हैं।

Leave a Comment

ताजा खबर