गंडई नगर पंचायत: अध्यक्ष की कुर्सी पर भी लटकी तलवार, कलेक्टर को सौपा अविश्वास प्रस्ताव!

कलेक्टर को सौपा अविश्वास प्रस्ताव
कलेक्टर को अविश्वास प्रस्ताव का आवेदन सौंपते पार्षद

सीजी क्रांति/खैरागढ़। छुईखदान में भाजपा को अध्यक्ष की कुर्सी से बेदखल करने बाद अब कांग्रेस की निगाह पड़ोसी नगर पंचायत पर है। गंडई नगर पंचायत में भी अध्यक्ष की कुर्सी पर तलवार लटक रही है। यहां के पार्षदों ने भी सोमवार को नपं अध्यक्ष श्यामलाल ताम्रकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव में हस्ताक्षर कर कलेक्टर तारन प्रकाश सिन्हा को आवेदन सौंपा है।

यह भी पढ़ें….भाजपा की नगरीय सरकार धड़ाम…अविश्वास प्रस्ताव ने छिनी अध्यक्ष की कुर्सी, प्रस्ताव के खिलाफ 3 तो, पक्ष में पड़े 12 मत!

गंडई नगर पंचायत के सूत्र ने बताया कि अविश्वास प्रस्ताव के आवेदन सात कांग्रेसी पार्षद के अलावा चार भाजपा पार्षद भी शामिल है। अभी नगर पंचायत में कुल 15 पार्षद हैं, जिनमें से भाजपा के 7 और कांग्रेस के 7 पार्षद हैं। जबकि श्यामलाल ताम्रकार ही एक अकेला निर्दलीय पार्षद है, जिन्हें भाजपा ने अध्यक्ष की कुर्सी देकर अपने पाले में ला लिया था। लेकिन कांग्रेस के साथ भाजपा पार्षदों के बगावती तेवर दिखने के बाद पार्टी को कुर्सी खोने का डर सता रही है।

भाजपा पार्षदों ने कांग्रेस से मिलाया हाथ

अविश्वास प्रस्ताव के लिए बहुमत की जरूरत होती है, लेकिन कांग्रेस के खेमे में महज 7 पार्षद ही पार्षद है। ऐसे में कांग्रेसियों को 4 भाजपा पार्षदों का साथ मिला है। कांग्रेस के 7 के अलावा भाजपा के 4 पार्षदों ने भी अविश्वास प्रस्ताव पर हस्ताक्षर किए हैं। जिससे इस अविश्वास प्रस्ताव को मुहर लग गई।

यह भही पढ़ें…भाजपा की नगरीय सत्ता गिराने वाले पार्षद पति के साथ 6 पार्षद पार्टी से निष्कासित, लेटर सोशल मीडिया में वायरल!

भाजपा में फिर मचा हडकंप

कलेक्टर को अविश्वास प्रस्ताव सौंपने की खबर के बाद से ही भाजपा में हडक़ंप मच गया है। क्योंकि जिस तरह खैरागढ़ नगर पालिका चुनाव में अध्यक्ष की कुर्सी के लिए जंग देखने को मिली है। उसके बाद छुईखदान की कुर्सी भी छीन गई। ऐसे में गंडई नगर पंचायत में भी अध्यक्ष की कुर्सी से भाजपा को गिराने के लिए अविश्वास प्रस्ताव का आवेदन देना पार्टी के लिए बड़ा झटका है।

यह भी पढ़ें….महरूम कला की महिला सरपंच के खिलाफ पंचों ने खोला मोर्चा, SDM को सौपा अविश्वास प्रस्ताव!

विधानसभा क्षेत्र में पड़ेगा नकारात्मक प्रभाव

खैरागढ़ विधानसभा उपचुनाव से पहले छुईखदान की नपं अध्यक्ष को हटाने के बाद फिर गंडई के लिए अविश्वास प्रस्ताव लाने की वजह से भाजपा को बड़ा नुकसान हो सकता है। क्योंकि छुईखदान और गंडई आसपास एरिया का मुख्य केन्द्र है। ऐसे में वोटरों के केंद्र में ही भाजपा के खिलाफ हवा चलेगा विधानसभा क्षेत्र में नकारात्मक प्रभाव पड़ेगा।

Leave a Comment

ताजा खबर