खैरागढ़ निकाय चुनाव परिणाम: कांग्रेस-भाजपा के दिग्गज मनराखन-रामाधार की अप्रत्याशित हार

कांग्रेस-भाजपा के दिग्गज मनराखन-रामाधार की अप्रत्याशित हार

मनोज चेलक/नीलेश यादव

खैरागढ़। नगरीय निकाय चुनाव में चौकाने वाले परिणाम सामने आए है। जिसमें कांग्रेस-भाजपा के दिग्गज चेहरों को करारी हार का सामना करना पड़ा है। जिसमें कांग्रेस के मनराखन देवांगन, नसीमा नासिर मेमन व जंत्री हरि भोंडेकर और भाजपा से रामाधार रजक, प्रफुल्ल ताम्रकार शामिल है।

पढ़ें – रिकाऊंटिंग में कांग्रेस ने जीता टाइ मुकाबला, विरोध में भाजपा का हंगामा!

कांग्रेस-भाजपा के दिग्गजों की हार ने पार्टी का समीकरण बिगाड़ दिया है। क्योंकि दोनों ही पार्टियों के ये दिग्गज चेहरे जीत जाते तो शहरी सत्ता की कुर्सी पर कब्जा जमाने के लिए बहुमत की जादुई आंकड़े पा सकते थे।

जानिए कौन किसके हाथों हारे!

मनराखन देवांगन: शहर के सबसे हाई प्रोफाइल माने जाने वाले वार्ड नंबर 16 दाऊचौरा के कांग्रेस प्रत्याशी तीन बार के पार्षद मनराखन देवांगन को करारी हार का सामना करना पड़ा है। उन्हें भाजपा प्रत्याशी विनय देवांगन ने 173 वोटरों से पटखनी दी है। खास बात यह है कि बड़ा चेहरा होने की वजह से मनराखन देवांगन अध्यक्ष पद के प्रबल दावेदार थे।

पढ़ें – कांग्रेस-भाजपा के पास 10-10 सीटें, फंसी अध्यक्ष की कुर्सी!

रामाधार रजक: शहर के वार्ड नंबर 09 ईतवारी बाजार की जनता ने भी चौकाने वाला निर्णय दिया है। उन्होंने भाजपा प्रत्याशी दो बार के पार्षद रामाधार रजक को नकार दिया है। वही कांग्रेस के दीपक देवांगन जैसे नए चेहरे पर भरोसा जताया है। भाजपा के रामाधार को एक नजदीकी मुकाबले में कांग्रेस प्रत्याशी दीपक देवांगन से शिकस्त खानी पड़ी। दीपक को 5 वोट से जीत मिली। यहां बता दे कि रामाधार रजक भाजपा की ओर से अध्यक्ष पद के लिए बड़ा चेहरा था।


प्रफुल्ल ताम्रकार: शहर के अलग-अलग वार्डों से तीन बार के पार्षद रहे भाजपा प्रत्याशी प्रफुल्ल ताम्रकार को भी वार्ड नंबर 05 ठाकुरपारा से करारी हार का सामना करना पड़ा है। उन्हें कांग्रेस प्रत्याशी सुमन दयाराम पटेल के हाथों हार झेलनी पड़ी है। बाहरी प्रत्याशी की हवा उनकी हार की प्रमुख वजह बनी।


नसीमा नासिर मेमन: वार्ड नंबर 07 गोलबाजार से कांग्रेस प्रत्याशी नसीमा नासिर मेमन को भी हार का सामना करना पड़ा है। उन्हें भाजपा प्रत्याशी अजय जैन ने 60 वोटों से हराया है। नसीमा भी अध्यक्ष पद के लिए प्रबल दावेदार थी। लेकिन निर्दलीय भंवरलाल खत्री ने कांग्रेस का समीकरण बिगाड़ दिया। जिस वजह से उन्हें हार का सामना करना पड़ा।

Leave a Comment

ताजा खबर