नौकरानी पर थी गंदी नियत, मंसूबा पूरा नहीं हुआ तो गला घोटकर टांग दिया फांसी पर, 3 साल तक पुलिस को देता रहा चकमा, होशंगाबाद से गिरफ्तार

सीजी क्रांति/रायपुर। तीन साल पहले हुई हत्या की गुत्थी पुलिस ने सुलझा ली है। घर की कामवाली बाई के कत्ल करने वाले आरोपी को होशंगाबाद से पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी ने अपना गुनाह कबूल लिया है। पुलिस को दिए बयान में आरोपी ने बताया कि घर की कामवाली बाई पर उसकी गंदी नियत थी। उसकी पत्नी और बच्चा कोलकाता गए तब उसने अपनी नौकरानी को हवस का शिकार बनाने की कोशिश की। लेकिन जब मंसूबा पूरा नहीं हुआ तो उसने गुस्से में आकर महिला का गला घोट दिया और उसे फंासी पर टांग दिया। आरोपी इतना शातिर था कि उसने हत्या करने के बाद खुद को पुलिस को इत्तला दी। और तीन साल से पुलिस को चकमा देता रहा। आखिरकार पुलिस ने आरोपी के बदलते बयान पर शक हुआ। कड़ी पूछताछ करने पर आरोपी ने अपना अपराध स्वीकार लिया।
प्राप्त जानकारी के अनुसार 16 अप्रैल साल 2020 अप्रैल के दिन। शहर के टिकरापारा थाने में हैरान-परेशान होकर आशीष दत्ता नाम का युवक पहुंचा। इसने पुलिस को अपना परिचय देते हुए बताया कि ये एक फाइनेंस कंपनी में आईटी सर्विस मैनेजर के तौर पर काम करता है और सिमरन सिटी के मकान में किराए से रहता है। पुलिस के पास जाकर आशीष ने कहा कि उसके घर काम करने वाली बाई ने खुदकुशी कर ली है और इसके बारे में वो कुछ नहीं जानता।

अपनी कामवाली बाई के मौत की जानकारी आशीष दत्ता ने खुद टिकरापारा थाने पहुंच कर दी थी। उसने बताया था कि वह घर का कुछ सामान लेने के लिए बाहर गया हुआ था। जब लौटा तो उसकी कामवाली बाई फांसी का फंदा लगाकर लटकी हुई थी। इसके बाद लगातार अपने बयान बदल कर आशीष पुलिस को बेहद शातिर अंदाज में 3 साल तक घुमाता रहा। लगातार बयान बदलने की वजह से पुलिस का शक आशीष पर गया। आशीष की पत्नी और एक बेटी भी है, पुलिस ने परिजनों से भी पूछताछ की और जिस मकान में कांड हुआ उसके आस-पास भी पूछताछ की। पुलिस को आशीष की गतिविधि संदिग्ध लगी। इसके बाद जांच का एंगल आशीष पर फोकस किया गया और अततः पुलिस अपराध तक पहुंच गई।

Leave a Comment

ताजा खबर