खैरागढ़ महोत्सव का आगाज…सीएम भूपेश बघेल ने दी साढ़े 6 करोड़ की सौगात, चिटफंड का डेढ़ करोड़ भी लौटाया, यशोदा को जिताने मतदाताओं का जताया आभार

राजकुमारी इंदिरा के तैलचित्र पर ष्प अर्पित करते CM भूपेश बघेल
राजकुमारी इंदिरा के तैलचित्र पर ष्प अर्पित करते CM भूपेश बघेल

सीजी क्रांति/खैरागढ़। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बुधवार शाम तीन दिवसीय खैरागढ़ महोत्सव का शुभारंभ किया। मुख्यमंत्री ने इस मौके पर खैरागढ़ अंचल को 6 करोड़ 53 लाख रूपए के विकास कार्याें की सौगात दी। मुख्यमंत्री ने चिटफंड कम्पनी की धोखाधड़ी के शिकार हुए निवेशकों को लगभग डेढ़ करोड़ रूपए की राशि लौटाई और राजनांदगांव जिले में स्थापित 9 स्वामी आत्मानंद उत्कृष्ट अंग्रेजी माध्यम विद्यालय का भी लोकार्पण किया।

यह भी पढ़ें…खैरागढ़ महोत्सव में संस्थापक परिवार की अनदेखी, नाराज समर्थको ने जताया विरोध

शुभारंभ समारोह के दौरान CM भूपेश बघेल सहित अन्य अतिथिगण

यह भी पढ़ें…खैरागढ़ में पुलिस OSD की नियुक्ति…IPS अंकिता शर्मा संभालेगी खैरागढ़—छुईखदान—गण्डई जिला के पुलिस महकमा का जिम्मा

इस दौरान कहा कि खैरागढ़ को कलाधानी के नाम से सीएम ने किया सम्बोधित। खैरागढ़ को 24 घंटे में जिला बनाने की घोषणा की थी, लेकिन 3 घंटे में ही जिला बना दिया गया। OSD भी आज पदस्थ हुए हैं, जल्द चार्ज भी लेंगे।

यह भी पढ़ें…खैरागढ़ महोत्सव में संस्थापक परिवार की अनदेखी, नाराज समर्थको ने जताया विरोध

सीएम ने कहा कि जल्द ही खैरागढ़-गंडई-छुईखदान पूर्ण रूप से जिले के रूप में स्थापित होगा, कलेक्टर भी आएंगे। चिटफंड कंपनी में निवेशकों का डूबा हुआ पैसा लौटाने का काम सिर्फ छत्तीसगढ़ में हो रहा है।

इस अवसर उच्च शिक्षा मंत्री उमेश पटेल, कुलपति ममता चंद्राकर, संसदीय सचिव कुंवर सिंह निषाद, विधायक एवं अन्य पिछड़ा आयोग के अध्यक्ष दलेश्वर साहू, नवनिर्वाचित विधायक यशोदा वर्मा, खनिज विकास निगम के अध्यक्ष गिरिश देवांगन, नगर पालिका अध्यक्ष शैलेन्द्र वर्मा कलेक्टर तारण प्रकाश सिन्हा सहित अन्य जनप्रतिनिधि एवं नागरिकगण उपस्थित हैं।

सीएम ने दिया छत्तीसगढ़ी में भाषण लोक कला ल आगे बढ़ाना है। छत्तीसगढ़ के पहिचान देशभर में नक्सलवाद से करथे। अब ऐला बदले ल पढ़ही। लोक कला के लिए इंदिरा कला संगीत विवि खैरागढ़ की कुलपति ममता चंद्राकर और ओकर परिवार ह बहुत करथे। आज भी ममता चंद्राकर ह मोर भौजी हरे।

काबर कि, ओकर पति प्रेम चंद्राकरजी ह स्कूल म मोर सीनियर रहिस। स्कूल टाइम ले नाटक के डायरेक्शन करत आत है। आज तक डायरेक्शन करत है। प्रेम चंद्राकर ह पहली नाटक के डायरेक्शन करिस हे ओकर नाम हरे, आलू-गुंडा, भजिया, .. इसे सुनते ही वहां मौजूद ऑडियंस की हंसी छूट आई।

Leave a Comment

ताजा खबर