उदयपुर में उपद्रव का मामला : बलवा का मामला दर्ज, आरोपियों की पहचान में जुटी पुलिस

उदयपुर में उपद्रव का मामला

सीजी क्रांति/खैरागढ़। उदयपुर पैलेस के बाहर उपद्रव करने वालों को पुलिस बख्शने के मूड में नहीं दिख रही है। पुलिस ने बलवा के अलावा चार अलग-अलग गैर जमानती धाराओं के तहत अज्ञात लोगों के खिलाफ अपराध पंजीबद्ध किया है। जिसमें धारा 147 बलवा करना, धारा 186 सरकारी काम में बाधा पहुंचाना, धारा 353 सरकारी अधिकारी को काम करने से रोकना, धारा 323 मारपीट करना और लोक संपत्ति नुकसानी निवारण अधिनियम की धारा 3(बी) शामिल है। बलवा के तहत मामला दर्ज करने के बाद पुलिस उपद्रवियों की शिनाख्ती में जुट गई है। बताया जा रहा है कि पुसिल ने संदिग्धों की सूची तैयार कर लिया है। उसी आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी। पहले उपद्रव भडक़ाने वालो पर शिकंजा कसा जाएगा। उसके बाद उपद्रव करने वाले उपद्रवियों को निशाने पर लिया जाएगा।

वीडियो का सहारा ले रही पुलिस

फिलहाल पुलिस वीडियो फुटेज के सहारे के सहारे उपद्रवियों के चेहरों को पहचाने की कोशिश कर रही है। पुलिस सूत्रों के अनुसार उपद्रवियों में उदयपुर के अलावा बाहर गांव के युवक भी शामिल थे। जिन्हें पुलिस चिहिंत कर रही है। इसके बाद मामले में आगे की कार्रवाई की जाएगी।

गांव में पसरा सन्नाटा

इधर उपद्रव के दूसरे दिन शुक्रवार को गांव में सन्नाटा पसरा रहा। गांव के लोग अपने निजी कार्यो में व्यस्त दिखे। वही उपद्रव में शामिल लोग दुबके हुए नजर आए। शुक्रवार शाम तक उदयपुर में शांति का माहौल बना रहा।

दो जवान तैनात

पुलिस ने सुरक्षा के लिहाज से पैलेस में दो जवानों की तैनाती की है। ताकि असामाजिक तत्वों द्वारा किसी भी तरह से आपत्तिजनक कार्य करने पर तुरंत सूचना पहुंचा सके। इसके अलावा पुलिस गाडिय़ां गांव में पेट्रोलिंग करती रही, वही पुलिस के अधिकारी भी मुआयना करने गांव पहुंचे थे।

मामले को लेकर छुईखदान थाना प्रभारी रामेश्वर देशमुख ने बताया कि उदयपुर में तोड़फोड़ व पथराव के बाद IPC की विभिन्न धाराओं व लोक संपत्ति नुकसानी निवारण अधिनियम की धारा के तहत अपराध पंजीबद्ध किया गया है, वरिष्ठ अधिकारीयों के मार्गदर्शन में आरोपियों की पतासाजी की जा रही है.

Leave a Comment

ताजा खबर