आदिवा​सी युवकों से नौकरी के नाम पर लाखों की ठगी, देखा सिखी आ गए झांसे में…

आदिवा​सी युवकों से नौकरी के नाम पर लाखों की ठगी
फाइल फोटो

सीजी क्रांति/खैरागढ़। नौकरी लगाने के नाम पर क्षेत्र के भोलभाले आदिवासी युवकों से लाखों रूपये की ठगी का सनसनीखेज मामला सामने आया है। ठगी करने वालों आरोपियों ने योजनाबद्ध तरीके से अलग—अलग जरूरतमंदो को लाखों रूपये का चूना लगाया है।

साहूकार से कर्ज लेकर ठगों को दिये 3 लाख

मिली जानकारी अनुसार शुक्रवार 1 अक्टूबर को ग्राम चिचका निवासी मानसिंग पिता कुमार नेताम ने गातापार थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई है। पीड़ित मानसिंग नेताम ने बताया है कि साल 2018 में रेलवे में गोंदिया—बिलासपुर जोन में सुपरवायजर व मेडिकल शाखा में सुपरवायजर के पद पर नौकरी दिलाने के नाम पर ग्राम जंगलपुर के आत्माराम पिता मेहत्तर राम गोंड़, डोलीखार जंगलपुर के राजेश गोंड़ पिता नामालूम, जालबांधा पवनतरा के रवि पिता डीआर बंजारे और श्रेयांश पिता एमके यादव निवासी नेहरू नगर वार्ड क्र. 37/ए भिलाई जिला दुर्ग ने मिलकर 3 लाख की ठगी की है। ठगों ने बकायदें युवक को फर्जी ज्वानिंग लेटर भी दिया था।

वनांचल क्षेत्र के युवकों को लिया झांसे में, की लाखों की ठगी

इसी तर्ज पर चारों आरोपियों ने तिरेन्द्र रामटेके से 1 लाख रूपये व गौरव सिन्हा से 1 लाख 10 हजार रूपये पुलिस विभाग में नौकरी लगाने के नाम पर झांसा देकर इसी महीने लिया है। मार्च 2018 में दुष्यंत नेताम पिता भकला राम नेताम से भी 1 लाख, 10 हजार रूपये लिये. प्रार्थी ने बताया है कि इन सभी लेनदेन का वह साक्षी है। प्रार्थी ने बताया कि सितम्बर 2018 में चेतन चंद्रवंशी से विधानसभा सचिवालय में सहायक ग्रेड—3 के पद पर नौकरी लगवाने के नाम पर ढाई लाख, शिवेन्द्र साहू ग्राम खैरबना से बिजली विभाग में नौकरी लगाने के नाम पर डेढ़ लाख लिया गया था वहीं बैगाटोला निवासी अजय धुर्वे नाम युवक से भी फॉरेस्ट में नौकरी लगाने के लिये 40 हजार रूपये की किश्त ली गई है।

लग्जरी कार में आते थे आरोपी, साल्हेवारा बांध के पास लिया जाता था रूपये

आदिवासी युवकों को अपने झांसे में लेने चारों आरोपी बकायदे लग्जरी कार में आते थे। पीड़ितों ने बताया कि चारों आरोपियों ने योजनाबद्ध तरीके से अलग—अलग जगह पर रूपये लिये। चारों ठग कार क्र. सीजी 07 एएम 7422 में आते थे, जिसको नेहरू नगर भिलाई निवासी श्रेयांश यादव चलाता था, बाकी तीनों आरोपी कार में बैठे रहते थे। अक्सर आरोपियों द्वारा साल्हेवारा बांध के पास आकर रूपये लिया जाता था।

पैसे लेकर टालमटोल करने लगे आरोपी, पीड़ित ने दबाव बनाया तो, दिया फर्जी ज्वानिंग लेटर

रूपये देने के बाद भी नौकरी कब मिलेगी, इस आशय की पुष्टि के लिये आरोपियों के मोबाईल नंबर पर कॉल करते थे लेकिन आरोपी बार—बार बहाना बनाकर बात टाल देते थे। दबाव बनाने पर आरोपियों ने एक फर्जी ज्वानिंग लेटर बनाई जो रेल्वे विभाग के नाम पर थी और आरोपी श्रेयांश यादव द्वारा रवि बंजारे को भेजा। रवि बंजारे ने अपने मोबाईल नंबर 9399429341 से प्रार्थी के मोबाईल नंबर 9098330530 में व्हाट्सअप किया था।

तंग आकर पीड़ित ने पुलिस थाने में आरोपियों के विरूद्ध शिकायत दर्ज कराई है। पुलिस ने आरोपियों के विरूद्ध आईपीसी की धारा 420, 34 के तहत अपराध पंजीबद्ध कर मामले को विवेचना में लिया है। पुलिस सरगर्मी से आरोपियों की तलाश में जुटी है।

Leave a Comment

ताजा खबर