समाज और परिवार से बहुत कुछ लिया, अब ऋण चुकाने की बारी- राज्यपाल अनुसुइया उइके

दीक्षांत समारोह में दिप्प्रज्ज्वालन के दौरान राज्यपाल अनुसुइया उईके
दीक्षांत समारोह में दिप्प्रज्ज्वालन के दौरान राज्यपाल अनुसुइया उईके

सीजी क्रांति/खैरागढ़। इंदिरा कला एवं संगीत विश्वविद्यालय में 16वां दीक्षांत समारोह कुलाधिपति एवं राज्यपाल सुश्री अनुसुईया उइके की अध्यक्षता में संपन्न हुआ। दीक्षात समारोह में देश की प्रसिद्ध पार्श्व गायिका पद्मश्री कविता कृष्णमूर्ति सुब्रमणियम, शास्त्रीय गायक प्रो.पंडित विद्याधर व्यास, कत्थक नृत्यांगना पद्मभूषण सुश्री उमा शर्मा, प्रसिद्ध रंगकर्मी देवेंद्र राज अंकुर और देवी जसगीत गायक दिलीप षड़ंगी को विवि की ओर से डी-लिट की मानद उपाधि राज्यपाल अनसुईया उईके ने प्रदान की। इसके अलावा विभिन्न संकायो से पास आऊट पीजी के 494, यूजी के 261 स्टूडेंट्स को 39 स्वर्ण और 1 रजक पदक प्रदान किया गया। वही 40 पीएचडी और डीलिट के 4 नियमित शोधार्थियो को उपाधि दी गई।

यह भी पढ़ें…सौभग्यशाली हूं कि मुझे कामधेनु माता मंदिर दर्शन करने का अवसर मिला- राज्यपाल

इंदिरा कला एवं संगीत विश्व विद्धालय के आडिटोरियम में आयोजित दीक्षांत समारोह के मुख्य अतिथि के रूप में सुप्रसिद्ध संगीतज्ञ विद्याधर व्यास उपस्थित थे। अध्यक्षता छत्तीसगढ़ प्रदेश की राज्यपाल अनसुईया उईके ने की। वहीं कार्यक्रम की अतिविशिष्ट अतिथि उच्च शिक्षा मंत्री उमेश पटेल और विशिष्ट अतिथि सांसद संतोष पांडेय थे। कार्यक्रम का शुभारंभ दीप प्रज्जवलन कर किया गया।

यह भी पढ़ें…खैरागढ़ महोत्सव में संस्थापक परिवार की अनदेखी, नाराज समर्थको ने जताया विरोध

अध्यक्षीय आसंदी से कुलाधिपति एवं राज्यपाल अनुसुईया उइके ने कहा कि मुझे विश्वास नहीं हो रहा है कि मैं आपके जैसे महानुभवों को अपने हाथ से ​डीलिट की उपाधि प्रदान कर रही हैं, खुद भाग्यशाली मानती हूं। जो लोग किसी भी क्षेत्र में अच्छे कर्म करते हैं, उन्हें अच्छा फल भी मिलता है। आपने जो डिग्रियां ली है, निश्चित रूप से आगे चलकर सफल होंगे। यहां जो शिक्षा ग्रहण की है, कला—साधना की है, उसका जीवन में सदुपयोग कीजिए। आज तक समाज और परिवार से बहुत कुछ लिया है। अब समाज और परिवार का ऋण लौटाने का उत्सव है। अगर आपके मन में दृढ़ इच्छा शक्ति है, तो सफलता निश्चित तौर पर मिलेगी।

विश्वास करके काम कीजिए, सफलता मिलेगी— विद्याधर

समारोह के मुख्य अतिथि शास्त्रीय गायक प्रो.पंडित विद्याधर व्यास ने राज्यपाल, कुलपति और विवि प्रबंधन का आभार जताया। कोई भी व्यक्ति किसी भी क्षेत्र से जुड़ा हो, जब उसके कार्यो का प्रमाण पत्र मिलता है, वह बड़ी बात होती है। कार्य पर विश्वास करके काम कीजिए, सफलता निश्चित तौर पर मिलेगी।

कुलपति ममता चंद्राकर ने कहा कि कोरोना संकटकाल के बाद खैरागढ़ महोत्सव और दीक्षांत समारोह फिर से आयोजित होने से अपार प्रसन्नता हो रही है। यह गौरवशाली दिन है। उन्होने आभार जताते हुए कहा कि सबके आने से उर्जा मिलती है। इस दौरान समारोह को उच्च शिक्षामंत्री उमेश पटेल और सांसद संतोष पांडेय ने भी संबोधित किया।

Leave a Comment

ताजा खबर