खैरागढ़ : विद्या नगर के रहवासियों ने दी चुनाव बहिष्कार की चेतावनी; दस साल से सडक़, बिजली, पानी का मोहताज…

विद्या नगर के रहवासियों ने दी चुनाव बहिष्कार की चेतावनी

सीजी क्रांति/खैरागढ़। सिविल लाइन का विद्या नगर करीब दस सालों से मूलभूत सुविधाओं के मोहताज है। यहां न सडक़, न पानी और न ही बिजली की सुविधा है। शासन-प्रशासन के कदमों में टेक गए, गिड़-गिड़ा डाले। मगर प्रशानिक अफसरों दिल नहीं पसीजा और न ही बात-बात पर विकास की बात करने वाले नेता झांकने पहुंचे।

आलम यह है कि लोगों की खुद के पैसे खर्च कर बिजली लायी। वही सडक़ भी चंदा करके बनाएं है। हताश होकर विद्यानगर के वोटरों ने चुनाव बहिष्कार करने की चेतावनी दी है…वार्ड की दबी मुद्दों को उठाने की कड़ी में सीजी क्रांति की स्पेशल रिपोर्ट

विद्या नगर कॉलोनी में 35 से अधिक परिवार निवासरत है, यहां करीब 80 मतदाता है। उन्होंने शनिवार रात बैठक की। वही शासन-प्रशासन की उपेक्षाओं पर लंबी चर्चा की।

पढें – देवव्रत की तस्वीर वाली पोस्टर विवाद: राजा आर्यव्रत व राजकुमारी शताक्षी, बोले- पोस्टर पर बेफिजूल बातें करना बंद करें!

कॉलोनी वासियों ने हताशा-निराशा में आखिरकार चुनाव बहिष्कार करने का निर्णय ले लिया और कॉलोनी के गेट पर टांग दिया चुनाव बहिष्कार करने वाला फ्लेक्स।

15 साल पहले रखी कॉलोनी नींव

सिविल लाइन के विद्या नगर में कॉलोनी बसाने की नींव पंद्रह साल पहले रखी गई थी। जहां शहर के व्यापारी से मकान निर्माण के लिए जमीन खरीदा गया था। पहले एक, दो फिर तीन से चार और आज के तारीख में लगभग 35 मकान बन गए है। लेकिन शासन की ओर बिजली, पानी, सडक़ की कोई व्यवस्था नहीं है।

पढें – मोटवानी के बाद सोनी परिवारों ने भी दी चुनाव बहिष्कार की चेतावनी…

खुद के पैसे खर्च कर लगवाये विद्युत पोल

विद्या नगर में निवासरत लोग साल 2014 तक अस्थायी कनेक्शन लेकर बिजली का उपयोग कर रहे थे। वही 2015 में करीब पांच लाख रूपए चंदा कर घर सहित कॉलोनी में बिजली का पोल लगाकर रोशनी की व्यवस्था की। पानी को लेकर बोर पर निर्भर है, आवाजाही के लिए हर साल मुरूम सडक़ का रिपेरिंग कराते आ रहे है।

नाली नहीं होने के कारण गंदा पानी कॉलोनी के खाली प्लाट में जमा हो रहा है। जहां पूरे दिन सूअर और आवारा मवेशियों का आना-जाना लगा रहता है।

वैध-अवैध में फंसा पेंच

यह मोहल्ला वैध-अवैध की पेंच में फंसा हुआ है। कॉलोनी में निवासरत लोग खुद को ठगे हुए महसूस कर रहे हैं। क्योंकि जमीन विक्रेता ने कॉलोनी डेवलप करने का वादा किया था। लेकिन ऐसा नहीं हुआ।

पढें – खैरागढ़ पिपरिया वार्ड नंबर 2 में त्रिकोणीय मुकाबले के आसार, कांग्रेस-भाजपा के प्रत्याशी को जनता कांग्रेस की चुनौती!

यहीं वजह है कि सरकारी कागजों में कॉलोनी पूरी तरह अवैध है। हालांकि उन्होंने बाद में अपने-अपने मकान का नगर निवेश से डायवर्सन करा लिया है। लेकिन सडक़ की जमीन व्यापारी के नाम पर है। इसलिए नियमितिकरण के अभाव में नपा कोई काम नहीं करा रही। लेकिन समय पर संपत्ति और समेकित कर की वसूली करती आ रही है।

पालिका की रूचि नहीं

सालभर पहले राज्य शासन ने अवैध कॉलोनियों को नियमित करने का निर्णय लिया है। लेकिन नपा सीएमओ की अरूचि के चलते मामला अधर में लटक गया है। जिसका खामियाजा उन्हे उठाना पड़ रहा है। नपा की ओर से नगर निवेश कार्यालय को जानकारी मांगी है। लेकिन अब तक उपलब्ध नहीं कराई गई है। जिसके चलते कॉलोनाइजर पर भी कार्रवाई नहीं हो पा रही। विद्यानगर वासियों का कहना है कि उनके आवेदन और प्रक्रिया पूरी करने के बाद एक महीने पहले ही नियमितिकरण हो जाना चाहिए था। लेकिन ऐसा नहीं हुआ। जिसके चलते वो मतदान नही करेंगे।

शहर में चुनाव बहिष्कार करने की चौथी घटना

शहर में चुनाव बहिष्कार करने की चौथी घटना है। इससे पहले किल्लापारा वार्ड नंबर 10 में जमीन मुआवजे को लेकर मोटवानी और दो सोनी परिवार के सदस्यों ने चुनाव बहिष्कार करने की चेतावनी दी है। उन्होंने बकायदा एसडीएम को लिखित में आवेदन भी दिया है। अब विद्या के लोगों द्वारा चुनाव बहिष्कार की चेतावनी दे हडक़ंप मच गया है।

जानिए, विद्या नगर के रहवासियों की पीड़ा…

लखनलाल श्रीवास्तव – कलेक्टर, एसडीएम, सीएमओ और नगर निवेश में सबको आवेदन दिए है, नगर निवेश से मकान का डायवर्सन हो गया है। फाइन पटाए, नपा को टैक्स दे रहे उसके बाद भी दस साल से सडक़ नाली को मोहताज है।

नरोत्तम वर्मा – नाली के अभाव में गंदा पानी खाली प्लाट में जमा हो रहा, जिसके कारण मच्छर का प्रकोप बढ़ गया है। मूलभूत सुविधाओं को लेकर नपा के रूखे रवैए और समाधान को लेकर कोई पहल नहीं करने के कारण चुनाव से दूर रहने का फैसला सब ने मिलकर लिया है।

इस संबंध में जानकारी नहीं मिली है। अगर ऐसा कुछ निर्णय हुआ है, तो मिलकर निराकरण करेंगे। –लवकेश ध्रुव, एसडीएम खैरागढ़

Leave a Comment

ताजा खबर