मनरेगा संघ की हड़ताल; रोजगार गारंटी योजना का काम बंद, 42 लाख 99 हजार से ज्यादा परिवार है पंजीकृत

मनरेगा संघ की हड़ताल
मनरेगा संघ की हड़ताल

सीजी क्रांति/खैरागढ़। मनरेगा मे कार्यरत अधिकारियो कर्मचारियों द्वारा बीते 4 अप्रैल से दो सूत्रीय मांगो को लेकर हड़ताल में जाने से मनरेगा मजदूरों को रोजगार नही मिल पा राह, पूरे प्रदेश में मनरेगा मे 42लाख 99 हजार 897 परिवार के 1 करोउ़ 49 हजार 404 मजदूर पंजीकृत हैं। मनरेगा महासंघ के आव्हान पर 4 अप्रैल से अनिश्चितकालीन हड़ताल जारी है। जिसके कारण प्रदेश में यह स्थिति निर्मित हुई है।

खेती किसानी का काम बंद होने के कारण पूरे साल मे अप्रैल-मई और जून महीने में सबसे ज्यादा मनरेगा मजदूरों को काम में नियोजित किया जाता है। लेकिन हड़ातल के चलते ग्रामीण मजदूरों को रोजगार नहीं मिल पा रहा है। योजना मे 2005 से कर्मचारी संविदा रूप में सेवा दे रहे है, बीते तीन सालो से वेतन वृद्धि नहीं हुआ जिसके कारण बढ़ती महंगाई में परिवार के जीवन निर्वाह में दिक्कत आ रही है।

यह भी पढ़ें…जालबांधा उपतहसील…तड़फड़ एक्शन, खैरागढ़ नायब तहसीलदार रश्मि दुबे बतौर अफसर पोस्टेड!

नरेगा संघ का दांडी मार्च, विशाल बाईक रैली आज

मनरेगा अधिकारी कर्मचारी संघ द्वारा दांडी यात्रा निकालकर सरकार को जगाने का प्रयास किया जा रहा है। दंतेवाड़ा जिले के दंतेश्वरी मंदिर से राजधानी रायपुर तक 390 किलोमीटर की दूरी पैदल चलकर की जा रही है। मंगलवार 19 अप्रैल को हड़ताली विशाल बाइक रैली निकालकर खैरागढ से जालबंाधा व्हाया अतरिया से वापस लौटेंगे और अपनी दो सूत्रीय मांगो को लेकर मीडिया से बात करेंगे। मनरेगा कर्मियो के हड़ताल को पंचायत सचिव संघ के बाद शिक्षक कांग्रेस के प्रदेश और ब्लाक इकाई सहित अधिकारी कर्मचारी फेडरेशन ब्लाक इकाई के कमलेश्वर सिंह, विभाष पाठक, रमेंद्र डड़सेना, सुधांशु झा, दिलीप सिंह बैस सहित अन्य पदाधिकारियो द्वारा धरना स्थल पर पहुॅचकर नैतिक समर्थन दिया गया ।

Leave a Comment

ताजा खबर