रमन सिंह का खैरागढ़-छुईखदान-गंडई जिला गठित होने का विरोध करना भाजपा को बहुत महंगा पड़ेगा – RP सिंह

आर पी सिंह
आर पी सिंह

सीजी क्रांति/खैरागढ़। छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी प्रवक्ता आरपी सिंह ने एक बयान जारी कर कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के द्वारा घोषणा पत्र में खैरागढ़-छुईखदान-गंडई को नया जिला बनाने की बात को भी शामिल किया गया है। लेकिन भाजपा यह पचा नहीं पा रही है। उन्होंने कहा कि 15 वर्षों तक डॉ रमन सिंह मुख्यमंत्री रहे और कोमल जंघेल 5 साल विधायक और 5 साल संसदीय सचिव रहे। लेकिन दोनों में कभी भी खैरागढ़-छुईखदान-गंडई को जिला बनाने का कोई प्रयास नहीं किया। खैरागढ़ जो राजनांदगांव और कवर्धा के बीच में पड़ता है। कवर्धा जहां डॉक्टर रमन सिंह का गृह जिला है, वही राजनंदगांव उनका निर्वाचन जिला है। इन दोनों जिलों का महत्व हमेशा बना रहे इसलिए खैरागढ़-छुईखदान-गंडई जिले का निर्माण उन्होंने नहीं किया।

यह भी पढ़ें…खैरागढ़ उपचुनाव: कांग्रेस की चुनावी घोषणा पत्र पर रमन का तंज…पूछे पहले के चार जिला कहां है?

अब वह समय आ गया है, जब जनता को सच पता चल सके। जिला बनाना तो बहुत दूर की बात है। जब गंडई के नागरिकों ने गंडई को तहसील बनाने की मांग की तब फरवरी 2018 में डॉ रमन सिंह ने पुलिस लाठी चार्ज करवाया था। जिसमें दर्जनों लोगों को चोटे आई और उनके खिलाफ अपराधिक मामले भी दर्ज किए गए। भूपेश बघेल जी की सरकार सत्ता में आते ही गंडई को तहसील बनाने की 30 वर्ष पुरानी मांग तुरंत पूरी कर दी गई और गंडई को पूर्ण तहसील का दर्जा मिल गया। ठीक इसी तरह खैरागढ़ विधानसभा उपचुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी के विजयी होते ही 24 घंटे के भीतर ही खैरागढ़ छुईखदान गंडई को जिला बना दिया जाएगा।

Leave a Comment

ताजा खबर