खैरागढ़ : निर्दलीय प्रत्याशी के समर्थन में उतरे राजा-राजकुमारी, बोले- पोस्टर पर बेफिजूल बातें करना बंद करें!

देवव्रत की तस्वीर वाली पोस्टर विवाद
File Photo

सीजी क्रांति/खैरागढ़। दिवंगत राजा देवव्रत सिंह की तस्वीर लगे पोस्टर पर जारी विवाद बढ़ता ही जा रहा है। विभा सिंह (Vibha Singh) के लीगल नोटिस की चेतावनी फिर जोगी कांग्रेस के कार्यकर्ताओं द्वारा पोस्टर निकालने के बाद विवाद और गहराया गया। लेकिन विवाद ने एक बार फिर नया मोड़ ले लिया है।

देवव्रत सिंह की तस्वीर लगे पोस्टर निकालते लोग

पढ़ें – पिपरिया वार्ड नंबर 01 में कांग्रेस-भाजपा में सीधी टक्कर, परिसीमन ने बदला मुद्दा, साधे तो जीत निश्चित!

राजा आर्यव्रतसिंह और राजकुमारी शताक्षी ने दिवंगत नेता देवव्रत सिंह (Devvrat Singh Khairagarh) की चुनावी पोस्टर में लगी तस्वीर को लेकर एक पत्र जारी किया है। जिसमें उन्होंने चुनावी पोस्टर में देवव्रत सिंह की तस्वीर लगाने को लेकर अपना समर्थन दिया है। उन्होंने सीधे तौर पर निर्दलीय प्रत्याशी भंवरलाल खत्री का समर्थन किया है। वही पोस्टर को लेकर बेफिजुल बातें नहीं करने की बात कही गई है।


सीसी क्रांति से बात करते हुए राजकुमारी शताक्षी सिंह (Shatakshi Singh) ने सोशल मीडिया में वायरल हो रहे पत्र को लेकर पुष्टि की है। उन्होंने कहा कि पत्र सही हैं, हमने पापा (दिवंगत राजा देवव्रत सिंह) की तस्वीर लगी पोस्टर पर मौखिक सहमति दी थी। लेकिन विवाद बढ़ने के बाद पत्र जारी किया गया है। मुझे लगता है कि पत्र जारी होने के बाद बेफिजूल की बातें बंद हो जाएगी।

जानिए पत्र में क्या लिखा हैं…

राजा आर्यव्रत सिंह (Aaryavrat Singh) और राजकुमारी ने निर्दलीय प्रत्याशी का परिचय देते हुए कहा है कि जब से हमारे पिता जी स्व.राजा देवव्रत सिंह (Devvrat Singh Khairagarh) राजनीति में आये है, तब से भंवरलाल खत्री उसके साथ कदम से कदम मिलाकर चले है, वे जिस राजनीतिक पार्टी में गये, वे सबसे पहले उनके साथ कदम से कदम मिलाते रहें।

पढ़ें – पिपरिया वार्ड नंबर 2 में त्रिकोणीय मुकाबले के आसार, कांग्रेस-भाजपा के प्रत्याशी को जनता कांग्रेस की चुनौती!

इस बीच उनसे हजारों लोग जुड़े एवं अलग भी हुए, किन्तु खत्री उनके साथ कंधे से कंधे मिलाकर खड़े रहें। इसलिए हम लोगों के लिए वे एक पारिवारिक सदस्य के रूप में रहें हैं।

मैं और मेरा परिवार इस पालिका चुनाव में उनके साथ है और हमने ही उनके पिता जी एवं परिवार के सदस्यों के तस्वीर को चुनाव प्रचार में इस्तेमाल करने की अनुमति दी। हमारे संविधान के मुताबिक हर भारतीय नागरिक को अनुमति है कि वह अपने आदर्श व्यक्ति की तस्वीर का प्रयोग कर सकते है।

भंवरलाल खत्री, स्व.राजा देवव्रत सिंह (Devvrat Singh Khairagarh) को अपना आदर्श मान कर ही उनकी तस्वीर को चुनाव प्रचार में इस्तमाल कर रहें हैं, वे उनकी तस्वीर का दुरुपयोग नहीं कर रहे हैं। हमारा निवेदन है कि इस विषय पर बेफजूल बाते न किया जाये। जहां तक तस्वीर की प्रयोग करने की अनुमति की बात है, तो भंवरलाल खत्री ने हमसे अनुमति प्राप्त की है।

खींची हुई है तलवार

राजा देवव्रत सिंह (Devvrat Singh Khairagarh) निधन बाद से कमल विलास पैलेस में राजनैतिक उत्तराधिकार को लेकर तलवार खींची हुई है, पूर्व पत्नि पद्मा सिंह और दोनों बच्चों के साथ समर्थकों की फौज कांग्रेसी विचारधारा में जाने की मानसिकता लेकर लगातार कांग्रेस प्रवेश कर रहा है। वही वर्तमान पत्नि विभा सिंह (Vibha Shingh) जोगी कांग्रेस की कमान संभाले हुए है। जिसके चलते दिन प्रतिदिन नई-नई कहानी सामने आ रही है। भंवरलाल खत्री के प्रचार सामग्री में देवव्रत सिंह के फोटो के उपयोग को लेकर विभा सिंह आपत्ति दर्ज कर रहीं है। वही दोनों बच्चें राजकुमारी शताक्षी और राजा आर्यवत पुराने पारिवारिक संबंधो के चलते प्रबल काका को फोटो के उपयोग की सहमति देने की बात कह रहे है।

1 thought on “खैरागढ़ : निर्दलीय प्रत्याशी के समर्थन में उतरे राजा-राजकुमारी, बोले- पोस्टर पर बेफिजूल बातें करना बंद करें!”

Leave a Comment

ताजा खबर